शनिवार, 13 मई 2017

पद्मश्री गोपाल दास 'नीरज'_नीरज का पता




आदमी ख़ुद को कभी यूँ ही सजा देता है
रोशनी के लिए शोलों को हवा देता है।

ख़ून के दाग़ हैं दामन पे जहाँ सन्तों के
तू वहाँ कौन से 'नानक' को सदा देता है।

एक ऐसा भी वो तीरथ है मेरी धरती पर
क़ातिलों को जहाँ मन्दिर भी दुआ देता है।

मुझको उस वैद्य की विद्या पे तरस आता है
भूखे लोगों को जो सेहत की दवा देता है।

चील-कौओं की अदालत में है मुज़रिम कोयल
देखिये वक़्त ये अब फ़ैसला क्या देता है।

तू खड़ा हो के कहाँ माँग रहा है रोटी
ये सियासत का नगर सिर्फ़ दग़ा देता है।

मैं किसी बच्चे की मानिन्द सुबह उठता हूँ
जब कोई माँ की तरह मुझको दुआ देता है।

साँस के बोझ से जब रूह तड़प उठती है
वो तेरा प्यार है जो दिल को हवा देता है।

मत उसे ढूँढ़िये शब्दों के नुमायश घर में
हर पपीहा यहाँ 'नीरज' का पता देता है।
***

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें